गौराष्ट्र त्रिफला चूर्ण का इस्तमाल Gaurashtra Triphala Churna

0
133
गौराष्ट्र त्रिफला चूर्ण कैसे बनता है
गौराष्ट्र त्रिफला चूर्ण कैसे बनता है

नमस्कार दोस्तों आज हम गौराष्ट्र त्रिफला चूर्ण के बारे में बात करने वाले हैं | दोस्तों यह त्रिफला चूर्ण आम त्रिफला चूर्ण से बिल्कुल अलग है क्योंकि कई बार आम त्रिफला चूर्ण को बनाते समय उसमें आंवला हरड़ और बहडा को मिला कर का बारीक चूर्ण बनाया जाता है, लेकिन गौराष्ट्र त्रिफला चूर्ण में बनाते समय पहले ही आंवला को अच्छी तरह से बारिक किया जाता है और हरड़ का पाउडर भी पहले से ही बनाकर ही इस्तेमाल करते हैं जिससे कि यह पाउडर के रूप में ही मिलता है लेकिन इसका सेवन करते समय आप तो बिल्कुल नहीं लगेगा कि यह पाउडर के स्वरूप में था |

देखा जाए तो घबरा स्टोर त्रिफला चूर्ण को पीने के बाद आपको तुरंत इसका असर दिखाई देने लगता है जिससे की आपके पेट की समस्याओं से आपको राहत मिलती है और आपका पेट स्वस्थ रहने में मदद मिलती है | पेट स्वस्थ रहने के कारण आप शरीर में होने वाली बीमारियों से भी बचते हैं जिससे कि आपको कोई नुकसान नहीं होता है |

 गौराष्ट्र त्रिफला चूर्ण कैसे बनता है ?

गौराष्ट्र त्रिफला चूर्ण कैसे बनता है
गौराष्ट्र त्रिफला चूर्ण कैसे बनता है

जैसे कि हमने आपको बताया इसे बनाते समय इसमें आंवला पाउडर हरड़ पाउडर और बहड़ा पाउडर को अच्छी तरह से मिश्रण बनाकर इसे तैयार किया जाता है | इस सूरन को पूरी तरह से हर्बल बनाने के कारण यह आपको फायदा जरूर दिलाता है भले इसको इस्तेमाल करने के बाद तुरंत फायदा ना मिलता हूं लेकिन फायदा जरूर मिलता है |

 गौराष्ट्र त्रिफला चूर्ण का इस्तेमाल करने के फायदे :

गौराष्ट्र त्रिफला चूर्ण का इस्तेमाल
गौराष्ट्र त्रिफला चूर्ण का इस्तेमाल

त्रिफला चूर्ण का इस्तेमाल करने से आपका पेट स्वस्थ रहता है और आपको पेट के जुड़ी किसी भी समस्या से परेशान नहीं होना पड़ता |

इस चूर्ण का इस्तेमाल करने से आपको :

  1. आपके शरीर में होने वाले वात को ठीक करता है |
  2.  पित्त की समस्या से छुटकारा मिलाता है |
  3. शरीर के दोष को दूर करने के लिए नियमित सेवन करना फायदेमंद रहता है |
  4. कॉन्स्टिपेशन की समस्या आने की कब की समस्या से दूर करता है |
  5. खाना अच्छे से हजम होने के लिए और अपच की समस्या को ठीक करने के लिए यह बहुत ही लाभदायक है |
  6. शरीर में बनने वाले विषारी घटक को दूर करता है और आपका पेट की चर्बी को ज्यादा बढ़ने नहीं देता |
  7. त्रिदोष और एंटी ऑक्सीडेंट के कारण यह आपके शरीर को स्वस्थ रखता है |

तो दोस्तों यह थे इस चूर्ण का सेवन करने के फायदे |

 इस चूर्ण का सेवन कैसे करें ?

चूर्ण का सेवन कैसे करें
चूर्ण का सेवन कैसे करें

कॉन्स्टिपेशन की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आपको इसे रात को सोने से पहले 1 घंटे पहले एक गिलास गुनगुने दूध के साथ या फिर गुनगुने पानी के साथ एक चम्मच त्रिफला चूर्ण मिलाकर पीना है |

अनियमित 3 – 4 दिनों तक इसका सेवन करने से आपके पेट की गड़बड़ी इसे ठीक होने लगती है और आपका पेट अच्छे से साफ होता है |

अगर आपको ऐसे हेल्थ सप्लीमेंट की तरह लेना है तो आप इसे मटके के पानी के साथ थोड़ा सा शहद मिलाकर उसमें एक चम्मच सेवन आपको सुबह सुबह करना है | यह एक हेल्थ सप्लीमेंट की तरह काम करेगा |

तो दोस्तो यह थी इस गौराष्ट्र त्रिफला चूर्ण का सेवन करने के फायदे और इस्तेमाल करने की जानकारी |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here